SwadList (Part101) उदयपुर के स्पेशल देसी घी के परांठे

ॐ ।।

#भारत_के_5000_स्वाद_Part101
#Udaipur #उदयपुर
#साईं_बाबा_पराँठा #Sai_baba_parantha

मित्रों……आज का स्वाद अपनी विशेष पहचान के साथ साथ एक कहानी, एक संदेश, एक प्रेरणा का भी प्रतीक है 😊

पोखर लाल जी ने सन 1995 में उदयपुर के दिल्ली गेट के पास एक छोटे से ठेले पर पराँठे बना कर बेचने का काम शुरू किया…..पोखर लाल जी साईं बाबा के भक्त हैं और दुकान का नाम भी उन्होंने #साईं_बाबा_पराँठा_सेंटर रखा.

देसी घी में सराबोर हुए अलग अलग प्रकार के पराँठों में #आलू#गोभी#चना_दाल#मेथी#चीज़#पनीर आदि का भरावन विशेष मसालों के मिश्रण के साथ भर कर बिलकुल क्रिस्पी तल कर बनाना पोखर लाल जी की कला है जिसमें वे पारंगत हैं….पराँठों के साथ परोसी जाने वाली लहसुन वाली कढ़ी और आलू की सब्ज़ी और साथ में दहीं पराँठों का यूनिक स्वाद और बढ़ा देते हैं.

वहीं सड़क पर और भी कई ठेले आसपास में लगते थे परन्तु पोखर लाल जी के पराँठों का स्वाद और #क्वालिटी इतनी अच्छी थी कि इस मार्केट की सबसे प्रसिद्ध दुकान बनने में साईं बाबा पराँठा सेंटर को अधिक समय नहीं लगा.

फिर एक दिन समय ने करवट ली, सरकारी निज़ाम बदला और प्रशासन ने रातों-रात सड़क के किनारे लगे हुए #ठेलों_को_उखाड़_कर_रख_दिया…..वर्षों पुराना जमा-जमाया धंधा पल भर में उजड़ गया…..अब पक्के पुराने ग्राहक जब वहाँ पहुँचे तो वहाँ पर दुकान नहीं थी……परन्तु स्वाद का जादू लोगों पर कुछ ऐसा चढ़ा था कि पोखर लाल जी ने अपना सब कुछ दाँव पर लगा कर वहाँ से कुछ ही दूरी पर गुलाबबाग रोड पर गंगा गली में एक पक्की दुकान ख़रीदी और काम दोबारा शुरू किया…..सब पुराने ग्राहक वहाँ पर अपने आप खींचे चले आए और आज इस नयी लोकेशन पर ग्राहकी पहले से भी कई गुना बढ़ चुकी है….. इस नयी दुकान में बक़ायदा बैठने की व्यवस्था है और सुबह के समय अक्सर ग्राहकों की वेटिंग में देखा जा सकता है…..पुराने ग्राहकों के साथ साथ नए ग्राहक और पर्यटक भी यहाँ पर ख़ूब आते हैं और उदयपुर आने वाले गोरे-गोरियाँ अक्सर यहाँ पर पराँठों की दावत उड़ाते दिख जाते हैं.

आज दुकान पर काफ़ी स्टाफ़ भी है परन्तु स्टाफ़ सिर्फ़ मदद के लिए है ….आज भी तवे पर #पराँठे_को_अपने_हाथों_से_तलना पोखर लाल जी स्वयं ही पसंद करते हैं…..कितना घी लगाना है, आँच कितनी तेज रखनी है, पराँठे को कब उलटना-पलटना है, कितना क्रिस्पी करना है कि पराँठा जल ना जाए और उसका #यूनिक_स्वाद बना रहे यह सब इनके हाथ की कला है जिसका थोड़ा सा ज्ञान मैंने भी यहाँ के तवे पर हाथ आज़मा कर लिया.

इस दुकान पर पराठों का स्वाद सुबह 8 बजे से रात 10 बजे तक निरंतर लिया जा सकता है.

इनके नाम की लोकप्रियता को भुनाने के लिए आस-पास में कई #नकलची_भी_आ_चुके_हैं जिन्होंने मिलते-जुलते नाम से दुकानें खोल रखी हैं और ऐसे ही नीले रंग के बोर्ड ग्राहकों को भरमाने के लिए लगाए हुए हैं परन्तु #असली_पराँठों_की_महक और पोखर लाल जी की मुस्कुराहट दूर से ही अलग पहचानी जाती है.

गूगल लोकेशन: https://goo.gl/maps/SfWp11UGv4JAXFpq5

SwadList रेटिंग : 5 स्टार ⭐️ ⭐️ ⭐️ ⭐️ ⭐️

कुल मिला कर साईं बाबा पराठा सेंटर की कहानी यही सीख देती है कि स्वाद किसी लोकेशन का मोहताज नहीं होता…..साथ ही साथ यह भी सिखाती है कि #कोशिश_करने_वालों_की_हार_नहीं_होती.
कनेक्टेड रहिए और आपका फ़ीड्बैक अवश्य दीजिए 🙏

आपका अपना ….. पारुल सहगल 😊

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: